Thursday, January 7, 2010

रियलिटी शो और बच्चे


द्वीपांतर परिवार
पिछले कुछ एक वर्षों से छोटे पर्दें पर रियलिटी शो तथा प्रतिस्पर्धात्मक कार्यक्रमों की बाढ़-सी आ रखी है। इन कार्यक्रमों से जिस प्रकार टीवी चैनलों की टीआरपी बढ़ती है, उसे देखते हुए हर एक टीवी चैनल इस प्रकार के ‘डेली सोप’ कार्यक्रमों को अपने एयर टाइम में जगह देने के लिए तैयार खड़ा है। इस तस्वीर का दूसरा पहलू यह भी है कि इन कार्यक्रमों में विजेता को एक भारी भरकम रकम तथा प्रसिद्धि इनाम के रूप में मिलती है, जिसके कारण शो में भाग लेने वाला हर प्रतिभागी खुद को सिकंदर साबित करने में जी-जान से जुट जाता है। और खुद को सिकंदर साबित करने की यह मनोदशा उन्हें कई बार अवसाद के चक्रव्यूह में भी उलझा देती है। उधर कार्यक्रम की टीआरपी बढ़ाने के लिए भी तमाम तरह के हथकंडे चैनलों द्वारा अपनाए जाते हैं। शो के जजों के आपसी मनमुटाव से लेकर प्रतिभागियों की आपसी नोक-झोक को भी ‘सनसेशनल’ सनसनी बनाकर बढ़ा-चढ़ाकर दिखाया जाता है। चूंकि यह सारा मामला टीआरपी से अर्थात् गलाकाट होड़ में अन्य चैनलों से आगे निकलने का होता है इसलिए हर वो तरीका अपनाया जाता है, जिससे दर्शक कार्यक्रम देखने के लिए प्रोत्साहित हांे। इसी बानगी के तहत छोटे-छोटे बच्चों को भी रातोरात स्टार और लखपति बनने के ख्याब दिखाए जाते हैं। बड़ों की तर्ज पर जब यह सुकुमार व्यावसायिकता के पुट से परिपूर्ण कार्यक्रमों में भाग लेते हैं तो वहां उनके साथ व्यवहार भी किसी प्रोफेशनल की तरह ही किया जाता है। हालांकि इसमें केवल टी-वी- चैनल वालों को ही दोष देना गलत होगा, क्योंकि संभवतघ् अभिभावकों का एक बड़ा तबका भी जाने-अनजाने इस ग्लैमर से प्रभावित होकर अपनी इच्छाओं का बोझ बच्चों पर डाल देता है। इस सबके बीच में अबोध आयु के बच्चे पर कार्यक्रम में असफल होने पर क्या बीतती होगी, इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल नहीं है। कुछ समय पूर्व दक्षिण कोलकाता की शिंजिनी सेन को एक रियलिटी शो में जजों के विचारों से इस कदर मानसिक आघात लगा कि वह लकवे का शिकार हो गई।ऐसा होगा संभवत किसी ने सोचा भी न होगा। यहां पर हमारा उदेश्य किसी पर दोषारोपण करने का या किसी की भावनाओं को आहत का कदापि भी नहीं है। शो के जजों को यदि गुरु मान लिया जाए तो उनका कार्य ही प्रतिभागियों ‘शिष्यों’ की योग्यता का आंकलन कर उनकी कमियों को उनके सामने लाना है। ऐसे में बहुत हद तक संभव है कि वह कटुवचन भी बोल दें। उधर प्रत्येक माता-पिता की इच्छा होती है कि उनकी संतान जीवन में सफलता और यश प्राप्त करें, इस लिए वो अपने बच्चों को प्रोत्साहित करते हैं, और निसंदेह करना भी चाहिए। लेकिन इन सब के बीच जो एक अहम् सवाल है कि प्रतियोगी बच्चों की भावनाओं को भी सभी समझना आवश्यक है, उसे दर किनार ही कर दिया जाता है, जिसका परिणाम शिंजिनी के रूप में हमारे सामने आता है। यहां आवश्यक यह है कि बच्चा किसी प्रतियोगिता, केवल टीवी शो ही नहीं बल्कि पढ़ाई इत्यादि के क्षेत्र में भी असफल हो जाता है, तो उसका मनोबल बढ़ाने का प्रयास सभी के द्वारा करना चाहिए। रियालिटी शो में शिल्पा शेट्टी जैसे स्थापित कलाकार भावनात्मक रूप से आहत हो जाते हैं तो एक बच्चे की स्थिति सहज समझी जा सकती है। इसलिए जरूरी है कि टीवी चैनलों के जज एवं बच्चों के माता-पिता भी इस बात का ध्यान रखें कि वो एक बच्चे हैं कोई प्रोफेशल्नस नहीं।

14 comments:

chopal said...

रियालिटी शो में शिल्पा शेट्टी जैसे स्थापित कलाकार भावनात्मक रूप से आहत हो जाते हैं तो एक बच्चे की स्थिति सहज समझी जा सकती है।

saraswatlok said...

sahi kaha aapne....

P.S.Bhakuni ( Paanu ) said...

DHANYVAD AAPKA !EK SARTHAK PRYASH HETU MERI SUBH KAAMNAYEN DWEEPAANTER PARIWAR KE SATH HAIN.

Saurabh Goel said...

kehne ko to reality hai par hota wahi hai jo channel wale ya judge chahte hai

accha likha hai aapne
padkar accha laga

PrakashKhatri said...

channel par sirf TRP ki jung hai
ye reality to sirf naam ki hai reality ke mamle mai hota kuch nahi hai.... bas uthapatak hai aur kuch nahi

Raima Rastogi said...

reality shows key liye log ji-jaan laga dete hai. par hota kuch nahi hai.... sirf reality ke naam par dhokha hai aur kuch nahi sirf cannel wale apni trp ke chakkar mai sab karte hai

kamal said...

TRP ki jung hai aur kuch nahi

UmeshKumar said...

reality ke mamle mai ye article accha likha hai....

bus logo ko behlate hai ye shows aur kuch nahi hota....

ye jhagda,, rona etc. sab dekhawa hai bus TRP ka funda aur kuch nahi hai....

मनोज कुमार said...

यथार्थ पर आधारित एक अच्छा आलेख।

Devendra said...

जरूरी लेख.. बधाइ
हमें यह देखना होगा क‍ि बच्चों का बचपन न खो जाय..

shama said...

Aapke vicharon se sahmat hun..ye pashchim ka andahnukaran hai..

हास्यफुहार said...

सही
बात।
ख़्यालात।

Gaurhav H Atri said...

Lekh aapne, accha likha hai. Baat samay ke saath, bina sanskaaron ko khoye, aage badney ki hai...shayad.

Gaurhav H Atri said...

Aapko bhi nav varsh ki shubhkaamna.