Thursday, June 18, 2009

द्वीपांतर

मित्रों आपका इस ब्लाग पर स्वागत है। आपको जानकर खु’ाी होगी जल्द ही द्वीपांतर हिंदी मासिक पारिवारिक पात्रिका प्रका’िात होने जा रही है। आप सभी सुधी लेखकों से अनुरोध है कि आप अपनी नवीनतम रचनाएं हमें नि’ाुल्क प्रका’ानार्थ भेज कर हमारा सहयोग करें। प्रस्तावित योजना के तहत द्वीपांतर हिंदी मासिक पात्रिका का अंक जुलाई के प्रथम सप्ताह में प्रका’िात हो जाएगा।
द्वीपांतर पात्रिका को प्रका’िात करने के लिए हम कुछ मित्रों की टीम पूरी तन्मयता के साथ जुड़ी है। अत्यंत ही सीमित संसाधनों में यह पात्रिका निकालने का हमारा यह प्रयास कितना सफल रहता है यह तो समय के साथ ही पता चलेगा। इस कार्य में आपका सहयोग सदैव सराहनीय रहेगा।साभारद्वीपांतर

13 comments:

ravikumarswarnkar said...

शुभकामनाएं...

वन्दना अवस्थी दुबे said...

स्वागत है. शुभकामनायें.

नारदमुनि said...

narayan narayan

Vijay Kumar Sappatti said...

namaskar

aapko dher saari shubkaamnaye...

dhanywad..

pls visit my blog " poemsofvijay.blogspot.com " aur meri kavitao par kuch kahiyenga , specially "tera chale jaana " aur " aao Sajan " par .. mujhe khushi hongi ..

dhanyawad..

Harkirat Haqeer said...

स्वागत है....!!

par ye word verification hta len ...!!

राजेंद्र माहेश्वरी said...

हिंदी भाषा को इन्टरनेट जगत मे लोकप्रिय करने के लिए आपका साधुवाद |

संगीता पुरी said...

बहुत सुंदर…..आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

saraswatlok said...

स्वागत है. शुभकामनायें.

shashank mehta said...

meri subhkamnaye aapke sath hai..........

Fret Beats School Of Guitar said...

Dher saari shubhkaamnaen. Kripya aap apne pura pata de taki rachnae bheji jaa sake. fretbeats@gmail.com mail kar sake to ati uttam. Dhanyawad.

डॉ. अमिता नीरव said...

ढेर-सारी शुभकामनाएँ...।

second opinion said...

स्वागत और बहुत बहुत शुभकामनायें .....

second opinion said...
This comment has been removed by the author.